Trending News
prev next

जानिए क्या रहा भारत का इतिहास ?

भारत के इतिहास को अगर विश्व के इतिहास के महान अध्यायों में से एक कहा जाए तो इसे अतिश्योक्ति नहीं कहा जा सकता। इसका वर्णन करते हुए भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु ने कहा था, ‘‘विरोधाभासों से भरा लेकिन मजबूत अदृश्य धागों से बंधा’’। भारतीय इतिहास की विशेषता है कि वो खुद को तलाशने की सतत् प्रक्रिया में लगा रहता है और लगातार बढ़ता रहता है, इसलिए इसे एक बार में समझने की कोशिश करने वालों को ये मायावी लगता है।

इस अद्भुत उपमहाद्वीप का इतिहास लगभग 75,000 साल पुराना है और इसका प्रमाण होमो सेपियंस की मानव गतिविधि से मिलता है। यह आश्चर्य की बात है कि 5,000 साल पहले सिंधु घाटी सभ्यता के वासियों ने कृषि और व्यापार पर आधारित एक शहरी संस्कृति विकसित कर ली थी।

पाषाण युगः
पाषाण युग 500,000 से 200,000 साल पहले शुरू हुआ था और तमिलनाडु में हाल ही में हुई खोजो में इस क्षेत्र में सबसे पहले मानव की उपस्थिति का पता चलता है। देश के उत्तर पश्चिमी हिस्से से 200,000 साल पहले के मानव द्वारा बनाए हथियार भी खोजे गए हैं।

कांस्य युगः
भारतीय उपमहाद्वीप में कांस्य युग की शुरुआत लगभग 3,300 ईसा पूर्व सिंधु घाटी सभ्यता के साथ हुई थी। प्राचीन भारत का एक ऐतिहासिक हिस्सा होने के अलावा यह मेसोपोटामिया और प्राचीन मिस्त्र के साथ साथ विश्व की शुरुआती सभ्यताओं में से एक है। इस युग के लोगों ने धातु विज्ञान और हस्तशिल्प में नई तकनीक विकसित की और तांबा, पीतल, सीसा और टिन का उत्पादन किया।

वैदिक कालः
भारत पर हमला करने वालों में पहले आर्य थे। वे लगभग 1,500 ईसा पूर्व उत्तर से आए थे और अपने साथ मजबूत सांस्कृतिक परंपरा लेकर आए। संस्कृत उनके द्वारा बोली जाने वाली सबसे प्राचीन भाषाओं में से एक थी और वेदों को लिखने में भी इसका उपयोग हुआ जो कि 12वीं ईसा पूर्व के हंै और प्राचीनतम ग्रंथ माने जाते हैं।

वेदों को मेसोपोटामिया और मिस्त्र ग्रंथों के बाद सबसे पुराना ग्रंथ माना जाता है। उपमहाद्वीप में वैदिक काल लगभग 1,500-500 ईसा पूर्व तक रहा और इसमें ही प्रारंभिक भारतीय समाज में हिंदू धर्म और अन्य सांस्कृतिक आयामों की नींव पड़ी। आर्यों ने पूरे उत्तर भारत में खासतौर पर गंगा के मैदानी इलाकों में वैदिक सभ्यता का प्रसार किया।

महाजनपदः
इस काल में भारत में सिंधु घाटी सभ्यता के बाद शहरीकरण का दूसरा सबसे बड़ा उदय देखा गया। ‘महा’ शब्द का अर्थ है महान और ‘जनपद’ का अर्थ है किसी जनजाती का आधार। वैदिक युग के अंत में पूरे उपमहाद्वीप में कई छोटे राजवंश और राज्य पनपने लगे थे। इसका वर्णन बौद्ध और जैन साहित्यों में भी है जो कि 1,000 ईसा पूर्व पुराने हैं। 500 ईसा पूर्व तक 16 गणराज्य या कहें कि महाजनपद स्थापित हो चुके थे, जैसे कासी, कोसाला, अंग, मगध, वज्जि या व्रजी, मल्ला, चेडी, वत्स या वम्स, कुरु, पंचाला, मत्स्य, सुरसेना, असाका, अवंति, गंधारा और कंबोजा।

फारसी और यूनानी विजयः
उपमहाद्वीप का ज्यादातर उत्तर पश्चिमी क्षेत्र, जो कि वर्तमान में पाकिस्तान और अफगानिस्तान है, में फारसी आक्मेनीड साम्राज्य के डारियस द ग्रेट के शासन में सी. 520 ईसा पूर्व में आया और करीब दो सदियों तक रहा। 326 ईसा पूर्व में सिकंदर ने एशिया माइनर और आक्मेनीड साम्राज्य पर विजय पाई फिर उसने भारतीय उपमहाद्वीप की उत्तर पश्चिमी सीमा पर पहुंचकर राजा पोरस को हराया और पंजाब के ज्यादातर इलाके पर कब्जा किया।

मौर्य साम्राज्यः
मौर्य वंशजों का मौर्य साम्राज्य 322-185 ईसा पूर्व तक रहा और यह प्राचीन भारत के भौगोलिक रुप से व्यापक एवं राजनीतिक और सैन्य मामले में बहुत शक्तिशाली राज्य था। चन्द्रगुप्त मौर्य ने इसे उपमहाद्वीप में मगध, जो कि आज के समय में बिहार है, में स्थापित किया और महान राजा अशोक के शासन में यह बहुत उन्नत हुआ।

विज्ञापन

satyam live

अन्य ख़बरे

  • इलाहाबाद विश्वविद्यालय में फीस बढ़ने पर प्रदर्शन
    सत्यम् लाइव, 22 सितम्बर 2022, उप्र।। इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय की लगभग चार गुना फीस बढ़ोतरी पर वहॉ के स्टूडेंट्स लगातार विश्वविद्यालय प्रशासन का विरोध एवं प्रदर्शन कर रहे हैं। वाइस चांसलर संगीता श्रीवास्तव का […]
  • नहीं रहे कॉमेडी किंग राजू श्रीवास्तव
    सत्यम् लाइव, 21 सितम्बर 2022, दिल्ली।। पिछले 42 दिनों से राजू श्रीवास्तव का इलाज दिल्ली के एम्स अस्पताल में चल रहा था। आज उनका आज निधन हो गया। शोकाकुल परिजनों को उनका पार्थिव शरीर पोस्टमॉर्डम के बाद सौंप दिया गया […]
  • बारिश ने की उड़द, मूंग और तिल की फसल चौपट
    सत्यम् लाइव, 20 सितम्बर 2022, उप्र।। पिछले 8 दिनों की उप्र में हुई बारिश ने एक तरफ सूखे से बचा तो दिया परन्तु उड़द, मूंगफली और तिल जैसी फसल को 90 प्रतिशत तक बर्बाद कर दिया है। बुंदेलखंड के झांसी में हुई 6 दिनों […]
  • नवरात्र में ट्रेन से यात्रा करने वाले को IRCTC देगा व्रत की थाली
    सत्यम् लाइव, 19 सितम्बर 2022, दिल्ली।। आईआरसीटीसी ने नवरात्रि के लिये विशेष ऑफर अपने यात्रियों के लिये लेकर आये हैं। आईआरसीटीसी अपने यात्रियों को सुख-सुविधाओं का विशेष ख्याल रखने हेतु आईआरसीटीसी ने जो ऑफर अपने […]
  • जन्मदिवस प्रधानमंत्रीः बीजेपी ने की 15 दिनों के जश्न की तैयारी
    सत्यम् लाइव, 16 सितम्बर 2022, दिल्ली।। दिनांक 17 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन को खास बनाने के लिए बीजेपी पार्टी के प्लान 15 तक का तय किया गया है। पार्टी 17 सितंबर से दो अक्टूबर तक पीएम मोदी के […]
  • अनोखी घटनाः बछड़ा श्मशान पर जा पहुॅचा
    सत्यम् लाइव, 15 सितम्बर 2022, झारखण्ड।। भारत में मनुष्य से गौ भक्ति का रिस्ता बहुत पुराना है। यह रिस्ता आज भी कायम है। उसमें भी गौ को भारतका व्यक्ति कभी भी जानवर नहीं बल्कि अपनी मॉ मानता है और गौ माता के बछड़े हो […]
  • बिजली सब्सिडी मिलेगी जो आवेदन करेंगे …केजरीवाल
    सत्यम् लाइव, 14 सितम्बर 2022, दिल्ली।। आज केजरीवाल ने प्रेस कान्फ्रेस में कहा कि कुछ लोग फ़्री बिजली नहीं लेना चाहते। अब दिल्ली में उन्हीं लोगों को बिजली सब्सिडी मिलेगी जो इसके लिए आवेदन करेंगे। आप आज से आवेदन करना […]

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.