मच्छरों से परेशान था यात्री, क्रू के साथ बदसूलकी

नई दिल्ली: इंडिगो विमान में सवार एक यात्री विमान के अंदर मौजूद मच्छरों से इस कदर परेशान हो गया कि उसे आखिर में विमान से नीचे उतार दिया गया। जानकारी के मुताबिक, लखनऊ से बेंगलुरू जा रही इंडिगो की फ्लाइट से एक शख्स को उसके खराब व्यवहार के कारण उतार दिया गया। कारण यह था कि मच्छरों से परेशान होकर यात्री ने अन्य यात्रियों और क्रू सदस्यों के साथ गलत व्यवहार करने लगा था। सोमवार को जारी एक बयान में कहा गया कि इंडिगो यात्री सौरभ राय जो इंडिगो फ्लाइट संख्या 6E-541 से इसी सुबह लखनऊ से बेंगलुरु की यात्रा पर जा रहा था उसे उसके व्यवहार के कारण विमान के उड़ान भरने से पहले उतार दिया गया।

प्लेन के टेक-ऑफ करने से पहले सौरभ ने विमान में मच्छरों कोलेकर शिकायत की थी। हालांकि जब केबिन क्रू उसके पास आते और उसकी समस्या को सुनते उसके पहले ही उसने धमकी भरे भाषा का प्रयोग कर गलत व्यवहार का परिचय देने लगा। बयान में कहा गया कि, विमान का दरवाजा बंद होने के बाद मामला और बिगड़ गया, यात्री ने दूसरे यात्रियों को भी विमान को नुक्सान पहुंचाने के लिए भड़काने लगा साथ ही ऑन-बोर्ड प्लेन में ‘हाइजैक’ जैसे आपत्तिजनक शब्दों का भी इस्तेमाल करने लगा। बयान में कहा गया कि, इस तरह की हरकत बिलकुल स्वीकार नहीं की जा सकती, साथ ही ऑन-बोर्ड विमान में इस तरह की धमकियों भरी भाषा असहनीय है। इसलिए, सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए क्रू ने पायलट को सूचित किया जिन्होंने राय को विमान से उतारने का फैसला किया।

Ads Middle of Post
Advertisements

एयरलाइन के मुताबिक सौरभ ने आरोप लगाया है कि, फ्लाइट में मच्छर भरे पड़े थे और जब मैंने आपत्ति जताई तो चालक दल ने मुझ पर हाथ उठाया और मुझे विमान से उतारने की धमकी दी। एयरलाइन के द्वारा जारी बयान में कहा गया कि, इंडिगो की पहली प्राथमिक यात्रियों और अपने सहकर्मियों की सुरक्षा की चिंता करना है। साथ ही ग्राहक संतुष्टि हमारे व्यवसाय के लिए महत्वपूर्ण है। इसलिए, इस तरह के अयोग्य व्यवहार हमारे लिए गंभीर चिंता का विषय है और एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट नागरिक होने के नाते हम इसे दूर करने के सभी उपाय करेंगे। इसके अलावा, हम यहां उल्लेख करना चाहेंगे कि राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने ऑन-बोर्ड के समय विमान में निस्संक्रामक धूआं को प्रतिबंधित कर दिया है। वर्तमान में इंडिगो ने इस आदेश को चुनौती दी है और इस पर फैसला अभी लंबित है।

अन्य ख़बरे

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.