रात्रि 8 बजे, शायद अब डर गॉव का।

मोदी जी के कथनानुसार अब सबसे बडी चुनौती ये बताई बताई है कि नोवेल कोरोना गॉव तक न पहुॅॅचने पाये। गॉवों में अब धीरे धीरे कार्यशैली को राहत दी जाने की उम्‍मीद लग रही है।

सत्‍यम् लाइव, 12 मई 2020, दिल्‍ली।। प्रधान मंत्री नरेन्‍द्र मोदी मंगलवार रात्रि 8 बजे देश को लॉकडाउन पर फेज-4 पर कुछ नया फैसला सुनायेगेंं। इस खबर केे आते ही सोशल मीडिया पुन: नये दौर की खबर फैल गयी। देश में लॉकडाउन के 54वें दिन में उनका यह पांचवा देश के नाम संदेश होगा। इससे पहले चार संदेेश में जो वार्त्‍ता हुई है उसमें –

Ads Middle of Post
Advertisements
  • पहला संंदेश :-प्रधानमंत्री ने 19 मार्च को जनता कर्फ्यू लगाने की बात कही थी साथ मेंंं,, 22 मार्च को देशभर में लॉकडाउन के दौरान शाम को लोगों ने घरों के अंदर से ही कोरोना फाइटर्स का ताली और थाली बजाकर आभार जताया जताने को कहा।
  • दूसरा संंदेश :-मोदी ने 24 मार्च को संबोधित किया और कोरोना संक्रमण रोकने के लिए 25 मार्च से 14 अप्रैल तक देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान किया था इसमेंं प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना हराने के लिये लोग घरों पर लक्ष्मण रेखा खींच लें।
  • तीसरा संंदेश :-प्रधानमंत्री मोदी ने 3 अप्रैल को एक वीडियो संदेश जारी किया जिसमें कहा कि 5 अप्रैल की रात 9 बजे 9 मिनट के लिए घरों की लाइट बंद कर घरों में दीपक, मोमबत्ती और मोबाइल से लाइट जलाकर, एकजुटता का परिचय दें।
  • चौथा संंदेश :-प्रधानमंत्री मोदी ने 14 अप्रैल को संबोधित करके कहा कि कि जान है तो जहान है अत: सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अवश्‍य करें।

आज रात्रि 8 बजे पुन: नरेन्‍द्र मोदी देश केे नाम संदेश जारी करेगें। 11 मई 2020 को राज्‍यों केे मुख्‍यमंत्री से लम्‍बी वर्त्‍ता के बाद 15 मई 2020 तक अपने राज्‍यों के बारे में नोवेल कोरोना की स्थिति के बारे मेें बताने को कहा। मोदी जी के कथनानुसार अब सबसे बडी चुनौती ये बताई बताई है कि नोवेल कोरोना गॉव तक न पहुॅॅचने पाये। जिसके लिये समस्‍त राज्‍य के मुख्‍यमंत्री से मोदी जी ने अपील की है कि इसकी विस्‍तृत योजना बनकार दें। गॉवों में अब धीरे धीरे कार्यशैली को राहत दी जाने की उम्‍मीद लग रही है। कल मोदी जी ने सभी राज्‍यों से अपील की है कि राज्‍य एक ब्‍लू प्रिन्‍ट बनाएं जिसमें लॉकडाउन और उसमें धीरे-धीरे राहत करने का प्रावधान होगा।

उपसम्‍पादक सुनील शुक्‍ल

अन्य ख़बरे

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.